कुछ पल जीवन के... (Kuch Pal Jeevan Ke...)

by Satish Nangia

Overview:

एक यांत्रिकी अभियंता, एक कविता संग्रह! दूसरा, तीसरा संस्करण तैयार है, एक पुस्तक भी करीब तीन महीने दूर है| कहते हैं जीवन में चलते रहो, कर्म प्रधान रहो| अपने जुनून को जीवित रखो| प्रयत्न जारी रहे, चेष्टा करते रहें. मुझे ५० वर्ष लगे| यदि मैं अभियंता न होता तो शायद एक कुर्ता धारी कवि या कला.....more


IN STOCK

This book is for sale within India only

Share

Format : PDF
Rs. 199.0 + GST
Buy
How to gift an ebook?

Other available formats

Format ISBN Price  
EPUB 9789384129880 Rs. 199.0 view
Paperback 9789384129941 Rs. 250.0 view

More information about the book

Book synopsis/description:

एक यांत्रिकी अभियंता, एक कविता संग्रह! दूसरा, तीसरा संस्करण तैयार है, एक पुस्तक भी करीब तीन महीने दूर है|

कहते हैं जीवन में चलते रहो, कर्म प्रधान रहो| अपने जुनून को जीवित रखो| प्रयत्न जारी रहे, चेष्टा करते रहें. मुझे ५० वर्ष लगे|

यदि मैं अभियंता न होता तो शायद एक कुर्ता धारी कवि या कलाकार होता|

Other details:

ISBN 97893884129903
Category Poetry
Language Hindi
Edition First
Published in 2015
Publisher CinnamonTeal Publishing

Other books in this category:

Armano ke gulsha The Betrayal Chai Ka Pyala Anthology of a Zeauoxian Murmure Fallen Burnt Offering আলো আঁধারের কবিতা (Aalo Andharer Kobita)
Copyright ©2016 DogearsEtc. All rights reserved.